Skip to main content

Featured post

Business idea for low investment,Business ideas for less educated people

  Business Ideas in Hindi कोई भी अनपढ़ या कम पढ़ा लिखा व्यक्ति इन 5 व्यवसायों को शुरू करके कर सकता है अच्छी खासी मोटी  दुनिया में कई ऐसे लोग होते हैं जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण वे शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते हैं. वैसे तो ये पहले के समय में ज्यादा होता था, किन्तु आज भी बहुत से लोग हैं जो शिक्षा प्राप्त करने में असमर्थ हैं. इसका मुख्य कारण पैसे की कमी के साथ – साथ साधन की कमी और कम पढ़े लिखे लोगों वाली पृष्ठभूमि का होना है. ये खास तौर पर छोटे शहर या गांव में रहने वाले लोग होते हैं, जोकि अनपढ़ रह जाते हैं. यदि आप ऐसे लोगों को जानते हैं जोकि अनपढ़ है या कम पढ़े लिखे है, और इस वजह से उनके पास कोई कमाई का साधन नहीं है. तो उन्हें आप कुछ पैसे कमाने वाले बिज़नेस के आइडियाज दे सकते हैं. जिसे वे अपनी अजीविका का साधन बना सकें. ऐसे लोगों के लिए कुछ बिज़नेस आइडियाज हम भी यहाँ दे रहे हैं, इसे अंत तक पढ़िये.  कम पढ़े लिखे लोगों के लिए व्यवसाय के आइडियाज ( Less Educated Business Ideas ) कम पढ़ें लिखे लोग या फिर जो अनपढ़ हैं उन्हें आप निम्नलिखित व्यवसाय शुरू करने की टिप्स दे सकते हैं.

Personality development। पर्सनालिटी डेवलपमेंट हिन्दी में

  • Personality development

Personality devlopment,hindi me
Attarcitive personality
  •  पर्सनालिटी डेवलपमेंट  
  •                                                                                            क्या आप ऐसे लोगों को जानते हो जो अगर कहीं किसी भी काम से हमारे बीच आ जाते हैं जिन्हें देखकर बात करके हमें बहुत ही अच्छा लगता है ।हम क्या बल्कि सभी लोग उनके पास  खिचे चले आते हैं । क्या आप उनका सीक्रेट जाना चाहोगे उनकी अट्रैक्टिव पर्सनालिटी के  बारे में उनमें लोगों को कुछ और दिखता है। यह कुछ और नहीं है उनकी इनर सेल्फ रिफ्लेक्शन भी है । हममें से हर कोई ऐसी Pesanolity Devlopmentकरने की क्षमता रखते हैं।  इसके लिए हमें हर एक स्किल सीखना होगा जो हमें इस आर्ट को सीखने में माहिर करेगा। 
  •                  तो चलिए आज हम सीखेंगे सही रास्ते जिससे कि हर कोई एक ग्रेट पर्सनालिटी डेवलप कर सकता है। चाहे हम आप एक इंट्रोवर्ट गर्ल हो या फिर आप मे कॉन्फिडेंस की कमी हो, जब तक इस आर्ट में आप माहिर नहीं बन जाते तब तक आप आसानी से अपनी प्रैक्टिस जारी रख  सकते हैं ।इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसी टिप्स  और ट्रिक्स बताएंगे जिससे आप एक अमेजिंग पर्सनालिटी डेवलप कर सकते हैं ।

                              हम आपकी बाहरी सुन्दरता पर ज्यादा ध्यान देते हैं। पर हम जब बात करते हैं तो सब कुछ रिफ्लेक्ट होने लगता  है क्या आप एक एरोगेंट डोमिनेटिंग सेल्फ सेंट्रल इंसान है। जो जिसे दूसरे किसी की कोई भी परवाह नहीं है । टाॅकिग एक्सन  बात करने का तरीका आपके बात करने के तरीके से आपका स्वभाव तुरंत ही समझ में आने लगता है। तो यह जरूरी है क्या आप अपनी इनर ब्यूटी पर ज्यादा ध्यान दें क्योंकि बाहरी सुंदरता तो हर कोई कुछ दिनों या कुछ महीने में आसानी से प्राप्त कर सकता है पर आप अपकी इनर ब्यूटी इसे विकसित करने में सालों साल लग जाते हैं। तब आपको यह स्पेशल पर्सनालिटी मैन बनाती है आपको एक अलग काम काफिंडेंस आता है। और तब जाकर आप कंपलीट मैन बनते हैं।


                          जब आप कहीं भी जाते हैं तो डरने लग जाते हैं कि कहीं मुझसे कुछ गलत तो मुंह से नहीं निकल जाएगा कहीं कोई मेरा मजाक तो नहीं उड़ायेगे । लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे इन्ही सब सेल्फ डाउट के बारे में सोचने लगते हैं । आपका  कांफिडेंट लेबल लो हो जाता है ।  जबकि यह होता है जो लोग बात करते हैं उनसे अच्छा आपको उसके बारे में पता होता है। लेकिन आपको लोगों का डर होता है ,आपको अपने अंदर एक केयरफुली क्षमता को डेवलप करना होगा ,आप अपने ऊपर भरोसा रखो कम बोलो पर सही बोलो ताकि धीरे धीरे लोगों को यह लगने लगे के आप सिर्फ बोलने का कांफिडेंस  पर बात नहीं रहते बल्कि आप आवश्यकता पड़ने पर अपनी बात भी दूसरे लोगों तक शेयर करते हैं । 

                         कभी ना कभी हम किसी से बहुत प्रभावित होते हैं प्रभावित होने का सबसे बड़ा रीजन यह होता है। उस इंसान के पर्सनालिटी अगर आप किसी ऐसे इंसान को जानते हो तो आप उसे दिल से आप आबजर्व  करो जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके उसके साथ समय गुजारे की कोशिश करें । क्योंकि जितना ज्यादा आप उनके साथ समय गुजारेंगे उतना ज्यादा आप उन से सीखेंगे । कैसे वो अपनी सिचुएशन को हैंडल करते हैं ।आप  जितना ज्यादा उनके साथ समय स्पेन्ड  करेंगे उतना ही आप उनके पाजिटिव  प्वाइंट सीख  सकोगे ।फिर आपको उनकी बेस्ट क्वालिटी को एडाप्ट कर लेना है । किसी आइडियल से सीखने में कोई बुराई नहीं है ।कहते हैं कि अच्छा ज्ञान कहीं से भी मिल जाए तो उसे ग्रहण कर लेना चाहिए । लेकिन आप तभी कुछ किसी से सीख सकते हो जब आप एडाप्टिव हो अगर आप अपनी समझ से किसी की बात को सोचते नहीं हो आप कुछ नहीं सीख सकते हो ,चाहे कोई भी आपका आइडियल हो।

                           आप किन लोगों के साथ समय बिताना पसंद करते हो जो हमें सा एक पॉजिटिव स्वभाव रखते हैं ,या फिर कि वह लोग जो नेगेटिव सोच रखते हैं। और हर समय शिकायत ही करते रहते हैं ।  शायद पॉजिटिव सोच रखने वालों के साथ बिल्कुल इसी तरह अगर आप हमेशा नेगेटिव सोच रखते हो तो  लोग आप के साथ समय गुजारना पसंद  नहीं करेंगे बात तक करना नहीं चाहेंगे। आपको देखते ही अपना मुंह दूसरी तरफ घुमा लेंगे ।हम सभी  की जिंदगी में सैकड़ों समस्याएं और उनका सामना हमें खुद से ही करना पड़ता है। इसलिए अपनी समस्याओं का दुखड़ा रोते रहने की कोई जरूरत नहीं है । इसके अलावा हमेशा एक सकारात्मक सोच रखने की कोशिश करें और दूसरों को हमेशा हंसाने की कोशिश करें तभी आप से सभी मिलना और आपको बुलाना पसंद करेंगे।



  • 5कंप्लीमेंट टू अदर्स (COMPLEMENT TO OTHERS)

                            हमेशा वातावरण और सेचुएशन के हिसाब से कपड़े पहनें जैसे आप अगर आफिस या किसी पार्टी में जा रहे हैं तो ब्लेजर पहन सकते हैं । ऐसे ही आप डेली पहनने  के कपड़े फैमिली फंक्शन के कपड़े, सोने के समय पहनने वाले कपड़े एक्सरसाइज करने के समय पहनने वाले कपड़े और दोस्तों के साथ में घूमने के कपड़े अलग-अलग सुन सकते हैं । इसके अतिरिक्त आपको  एसेसरीज भी अच्छे से चुननी  चाहिए जिसमें आपका चश्मा टाई  वाइलेट  पेन घड़ी शूज वगैरह । हाॅ पर आपको यह पता होना चाहिए कि कौन से कपड़े आप पर सूट करते हैं । या आप पर अच्छे लगते हैं । यह सब करने से  आप हर समय  काम्फिडेंस महसूस करेंगे और  खुश नजर आयेंगे ।

SREAD SELF HELP BOOKअपनी खुद की मदद के लिए किताबें पढ़ें

 ऐसा सभी कहते हैं की किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त हैं किताबें पढ़ने से आप अपने आप में एक ग्रेट पर्सनालिटी डेवलपमेंट की में चमत्कार ला सकते है। जो चेंज  आप  अपने आप में लाने की कोशिश कर रहे हो वह सभी आप में चेंजेज ऑटोमेटेकली आने लगेंगे यह आदत आपको पूरी तरह बदल देगी। आपके अंदर जो है ना स्टैंन्स  छुपा हुआ है जिसका आपको अभी तक पता भी नहीं था। सेल्फ हेल्प बुक्स पढ़ने से यह आदत आपके हिडन स्टेंस बाहर ले आएगा सेल्फ हेल्प बुक्स आपको सेल्फ इंटरेक्शन करने में मदद करेगी जिस वजह से आप अंदर से एक बेहतर इंसान बनने लगोगे। जैसे आप एक ग्रेट पर्सनालिटी डेवलप करने में सक्सेसफुल बन जाओगे इसके लिए बहुत सारी बुक्स हैं जो हम बताएंगे।
WORK ON YOUR OUT LOOK अपनी बाहरी सुंदरता का ध्यान रखें

 हमेशा वातावरण और सेचुएशन के हिसाब से कपड़े पहने जैसे आप अगर आफिस या किसी पार्टी में जा रहे हैं तो ब्लेजर पहन सकते हैं। ऐसे ही आप डेली  पहनने के कपड़े फैमिली फंक्शन के कपड़े सोने के समय पहनने वाले कपड़े एक्सरसाइज करने के समय पहनने वाले कपड़े और दोस्तों के साथ में घूमने के कपड़े । अलग-अलग चुन सकते हैं इसके अतिरिक्त आपको  एसेसरीज भी अच्छे से चुननी  चाहिए। जिसमें आपका चश्मा टाई वायलेट  पेन घड़ी शूज वगैरह हां पर आपको यह पता होना चाहिए कि कौन से कपड़े आप पर सूट करते हैं या आप पर अच्छे लगते हैं । यह सब करने से आप मे हर समय आपमें   कांफिडेंस  और खुश नजर आओगे।



  • कहानी और बॉडी लैंग्वेज (WORK ON YOUR BODY LANGUAGE)



                          काफी समय लोग अपनी पर्सनालिटी को अपनी बाहरी दिखावे के साथ मिक्सप  कर लेते हैं ग्रेट पर्सनालिटी मतलब ब्यूटीफुल एपीयरेंस ही सब कुछ नहीं नहीं होता । जब आप किसी से बात करते हो तो आपकी आंखों की चमक आप की बुलंद आवाज आपकी बॉडी लैंग्वेज । यह सब कुछ एक ग्रेट पर्सनालिटी मैं गिना जाता है अब तो यह सभी मानते हैं कि जब आप किसी से बात करते हो तो 70 परसेंट आपकी बॉडी लैंग्वेज से   कन्वे होता है। लोग आप क्या बोल रहे हो इस आधार पार निर्णय नहीं लेते । आप कैसे बोल रहे हो आपकी बॉडी लैंग्वेज पर भी जाने अनजाने में नोटिस करते हैं तो किसी से बात करते समय यह ध्यान देना बहुत जरूरी है कि आपकी बॉडी लैंग्वेज क्या कन्वे कर रहा है। कहीं आप गलत तो नहीं बात कर रहे हैं । या फिर ज्यादा उत्तेजक और डरे हुए तो नहीं लग रहे हैं । जब आप बात करते हो लोग आपका  कांफिडेंस भी नोटिस करते हैं कहीं आप सोच कुछ और बोल कुछ और तो नहीं रहे हो तो। किसी से बात करते समय इस बात का ध्यान रखना है  आपकी बॉडी लैंग्वेज कैसा सिग्नल पास कर रही है। 

7   
                             इस आर्टिकल में मैंने आपको बताया है यह बहुत ही आसान है  आपकी ग्रेट पर्सनालिटी डेवलप करने में बस आपको यह ध्यान रखना है कि ।।।।।।।
my other post allso reade  Dr homeo Jahangir BHABHA Biographt

  •                YOU CAN DO IT

             अगर आपको इसी तरह के ब्लाग पढ़ना अच्छा लगता है तो आप  Forcese.com को सब्सक्राइब कर सकते हैं । हां अगर आपका कोई सुझाव या प्रश्न है तो नीचे दिए गए ई मेल पर कमेन्ट करने में कोई संकोच न करें ।

      धन्यवाद 

EMAIL       forcese.info@gmail.com 


Comments

Popular posts from this blog

Father of New Clear Energy biography Dr.HOMEO JAHANGIR BHABHA

                        " Dr.HOMEO JAHANGEER BHABHA"            "मेरी सफलता इस  बात पर निर्भर नहीं   करती  कि कोई मेरे बारे मे क्या सोचेगा ,   मेरी सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि मैं क्या कर सकता हूँ  ।।                                                                                                   Birth date: 30 October 1909                      Deth 24 Janauray1966 Mont blanc  Dr Homeo j Bhabha            भारत दुनिया के उन 9 देशों में से एक है जिसके पास न्यूक्लियर पावर है।                                                         भारत में न्यूक्लियर पावर के रिजल्ट के नाम से जानते हैं इनका नाम तो आपने सुना ही होगा।आज हम बात करेंगे  प्रसिद्ध वैज्ञानिक डाक्टर होमी जहांगीर भाभा की उनकी उपलब्धियों और भारत के परमाणु विकास में उनके योगदान की जिन्हें फादर ऑफ इंडियन न्यूक्लियर प्रोग्राम यानि भारतीय परमाणु कार्यक्रम का जनक भी कहा जाता है। Fother of new Clear Energy Dr Homi Jehangir Bhabha जिन्होने दो प्रसिद्ध शोध संस्थानों की नींव 1945मे

Biography of lord Buddha,Buddha quots?

गौतम बुद्ध का त्याग Sacrifice of Gautama Buddha Biography Lord Buddha Birth of Buddha?      जन्म तिथि 563 ई० जन्म स्थान लुंबिनी, नेपाल    वास्तविक नाम       सिद्धार्थ वशिष्ठ उपनाम गौतम बुद्ध, सिद्धार्थ गौतम, शाक्या मुनि, बुद्धाव्यवसायबौद्ध धर्म के संस्थापक व्यक्तिगत जीवन Death of Buddha? मृत्यु तिथि 483 ई०मृत्यु स्थलकुशीनगर, भारतआयु (मृत्यु के समय) 80 वर्ष गृह नगरलुंबिनी, नेपालधर्मबौद्ध धर्म जाति क्षत्रिय (शाक्य)परिवार  Who was lord Buddha father? पिता - शुद्धोधन माता - मायादेवी, महाप्रजावती उर्फ़ गौतमी (सौतेली माँ) प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां वैवाहिक स्थिति विवाहित पत्नी राजकुमारी यशोधरा 29 साल की उम्र में, सिद्धार्थ ने अपने महल  और परिवार को, एक सन्यासी जीवन जीने के लिए त्याग दिया, उन्होंने सोचा कि गृह त्याग  का जीवन जीने से, उन्हें वहजवाब मिलेगा जो वह तलाश कर रहे थे। अगले छह सालों तक उन्होंने और अधिक तपस्वी जीवन जिया। उस दौरान उन्होंने बहुत कम खाना खाया और उपवास करने के कारण शरीर बहुत ही दुर्बल और कमजोर हो गया था। इन वर्षों