Skip to main content

Posts

Featured post

Business idea for low investment,Business ideas for less educated people

  Business Ideas in Hindi कोई भी अनपढ़ या कम पढ़ा लिखा व्यक्ति इन 5 व्यवसायों को शुरू करके कर सकता है अच्छी खासी मोटी  दुनिया में कई ऐसे लोग होते हैं जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण वे शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते हैं. वैसे तो ये पहले के समय में ज्यादा होता था, किन्तु आज भी बहुत से लोग हैं जो शिक्षा प्राप्त करने में असमर्थ हैं. इसका मुख्य कारण पैसे की कमी के साथ – साथ साधन की कमी और कम पढ़े लिखे लोगों वाली पृष्ठभूमि का होना है. ये खास तौर पर छोटे शहर या गांव में रहने वाले लोग होते हैं, जोकि अनपढ़ रह जाते हैं. यदि आप ऐसे लोगों को जानते हैं जोकि अनपढ़ है या कम पढ़े लिखे है, और इस वजह से उनके पास कोई कमाई का साधन नहीं है. तो उन्हें आप कुछ पैसे कमाने वाले बिज़नेस के आइडियाज दे सकते हैं. जिसे वे अपनी अजीविका का साधन बना सकें. ऐसे लोगों के लिए कुछ बिज़नेस आइडियाज हम भी यहाँ दे रहे हैं, इसे अंत तक पढ़िये.  कम पढ़े लिखे लोगों के लिए व्यवसाय के आइडियाज ( Less Educated Business Ideas ) कम पढ़ें लिखे लोग या फिर जो अनपढ़ हैं उन्हें आप निम्नलिखित व्यवसाय शुरू करने की टिप्स दे सकते हैं.
Recent posts

Merchant Navy Recruitment,requirement,Indian merchant Navy

 मर्चेंट नेवी क्या हैं – What is Merchant Navy सबसे पहले ये समझ लें की यह इंडियन नेवी (Indian Navy ) से अलग है। मर्चेंट नेवी में कमर्शियल जहाजो में काम करना होता है। हालाँकि ये सरकारी और प्राइवेट दोनों होती हैं। मर्चेंट नेवी ज्वाइन करने के लिए चाहिए ये योग्यता – Marchant navy eligibility 2020 मर्चेंट नेवी में आप कक्षा दस से लेकर बी.टेक के बाद तक जा सकते है। अलग अलग पोस्ट के लिए अलग अलग योग्यताएं मांगी जाती है। दसवी के बाद आप मर्चेंट नेवी में डिप्लोमा कर सकते हैं इसमें आप प्री-सी ट्रेनिंग फॉर पर्सनल, इंजन रेटिंग, सलून रेटिंग जैसे कोर्स कर सकते है और इसके बाद यहाँ जा सकते हैं। इसके बाद अगर आप 12वीं के बाद इसमें जाना चाहते है तो इसके लिए आपको नॉटिकल साइंस, मरीन इंजीनियरिंग का कोर्स कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप ग्रेजुएशन के बाद जाना चाहते हैं तो आपको ग्रेजुएशन के दौरान कम से कम पचास फीसदी अंक लाने होंगे। इसके अलावा आपकी उम्र 28 साल से अधिक नहीं होनी चहिये और सबसे बड़ी बात आप अविवाहित होने चहिये। इन पदों में मिलती है नौकरी –  Merchant Navy Recruitment 2020 मर्चेंट नेवी में जाने वाला हर शख

Eye contact attraction in hindi,eye contact love,the power of eye contact,eye contact quotes.

  Eye contact attraction in Hindi, Eye contact love, Eye contact  communication power of eye contact? Eye contact meaning?                  अगर आप यह अच्छी तरह से समझ गए तो फिर चाहे कोई भी आप से  बात कर रहा हो उनके दिल या  दिमाग में क्या चल रहा है आपको समझने में जरा सी भी देर नहीं लगेगी कि सामने वाला लड़का या लड़की,आदि जो भी है आपको भाव  दे रहा है या लपेट रहा है। Eye contact psychologi          जब हम किसी से बात करते हैं आंखों का रिएक्शन किसी भी  अगर प्रसन्न से बात करते समय eye contact  बहुत ही मायने रखता है । हम जिस व्यक्ति से बात कर रहे हैं ,उसके ऊपर हमारी बातों का क्या असर हो रहा है हम सामने वाले व्यक्ति की आंखों में देख कर पढ़ या समझ  सकते हैं। जैसे सामने वाला व्यक्ति कहीं हमारी बातों से उब तो नहीं रहा है, या सामने वाला लड़का, या लड़की जो भी व्यक्ति है उसकी आंखों में और उसके हाव-भाव देखकर हर बातों को समझा जा सकता है। Types  of eye contact                   जब हम किसी से बात कर रहे होते हैं तो सामने वाले की आंखों को देखना है और गौर करना है। सामने वाला व्यक्ति सामने वाला व्यक्ति 4 स

Raksha Bandhanरक्षाबंधन

                              raksha bandhan            Raksha Bandhan                       भारतीय संस्कृति में हर दिन ही एक उत्सव है उससे कोई न कोई पर्व अवश्य जुड़ा रहता है । जीवन में उत्साह उल्लास बनाये रखने के लिये पर्वो की महत्वपूर्ण भूमिका है । इन पर्वो से जुड़ी अनेकों पौराणिक तथा दंत कथायें हैं जिनके माध्यम से एक सकारात्मक प्रयोजन की सृष्टि की गई है । इन कथाओं के कथानक यद्यपि काल्पनिक चमत्कारिक तथा बड़े ही तिलस्माती अंदाज में व्यक्त हुए हैं , परन्तु उपसंहार में किसी उच्च शाश्वत मूल्य की स्थापना भी की गई है ।raksha bandhan 2020  अगर इन महीनों को हम हिन्दी महीनों में व्यक्त करें तो यह माह आषाढ़ , सावन , भादो कहलायेगें ।                           निम्न तालिका द्वारा यदि हम स्पष्ट करें तो इन महीनों में निम्न पर्व पड़ेगें । उपरोक्त तालिका से स्पष्ट है कि हिन्दू समाज में प्रतिदिन ही उत्सव हैं । वैसे उपरि वर्णित त्यौहार अलग - अलग क्षेत्र में विशेष महत्व रखते हैं ।  आधुनिक समाज को इन , बहुत से पर्वो के बारे में जानकारी भी नहीं है । यहाँ पर इन सबके बारे में जानकारी देना , मनाने की वि

Kar bhala to ho bhala

             कर भला तो हो भला a good deed always comes around People say if you do good, the good comes back to ?   ● एक लड़का था जिसके ma bap मर चुके थे। वह दिन भर काम करने के  लिए जाता शाम के समय घर आता और खाना बनाता खाता और सो जाता।                 ● kar bhala to ho bhala paragraph यही प्रक्रिया बहुत दिनों से चल रही थी 1 दिन उस लड़के ने चार चपाती बनाई और रख कर के हाथ  हाथ मुंह धोने चला गया वापस आकर देखता है कि उसमें एक चपाती गायब है। kar bhala to ho bhala in hindi               ● प्रतिदिन यही कार्यक्रम हो रहा था उसने सोचा क्यों ना  मैं चोर को चोर को पकड़ू। इसलिए वह चुप कर बैठ गया इतने में देखता क्या है एक चूहा आ करके एक रोटी लेकर के चल दिया।                 ●यह देख कर वह बोला भाई मैं बहुत ही मेहनत करता हूं और तब जाकर के खाना मिलता है और तुम मेरी रोटी प्रतिदिन चुरा ले जाते हो।              ●  तो चूहे ने कहा यह मेरे हिस्से की रोटी है मैं  मैं खाऊंगा चूहे से लड़के ने पूछा कि मेरी समस्याएं और गरीबी कब दूर होगी यह सुनकर चूहा बोला तुम्हारी बातों का एक ही आदमी जवाब दे सक

अपने काम से काम रखिए?

अपने काम से काम रखिए?  mind your own business                                                       ■बहुत दिनों की बात है किसी जंगल में एक लोमड़ी और एक सियार रहता था। सियार अपने खाने की तलाश में इधर उधर पूरे जंगल में घूमता और कुछ ना कुछ खा कर के अपना पेट भर लेता था । ■ परंतु एक दिन उसे खाने के लिए कुछ भी नहीं मिला था वह निराश होकर बैठा हुआ था, तभी क्या देखता है एक हाथी जा रहा है  जाते समय वाह लीद करते हुए चला जा रहा था।   नैतिक कहानियां  moral storys                        ■सियार बेचारा भूखा होने के कारण  लीद को को सूंघने  लगा चाट कर देखा तो उसे हाथी के लीद मीठी लगी।                       ■ उसने खूब पेट भर कर के खा लिया अब तो सियार की  भूख मिट गई और आराम से सो गया अगले दिन फिर हाथी निकला वही प्रक्रिया फिर हुई  सियार  ने  फिर पेट भर के खाना  खाया।                       ■ हाथी के चले जाने के बाद लोमड़ी वहां से गुजरी तो लोमड़ी ने सियार से पूछा कि तुम खाने की तलाश में क्यों नहीं चलते तो  सियार बोला यहाँ से  मेरा एक सेठ  निकलता है और वह मुझे पेट भर के प्रतिदिन भोजन दे जाता

Biography of lord Buddha,Buddha quots?

गौतम बुद्ध का त्याग Sacrifice of Gautama Buddha Biography Lord Buddha Birth of Buddha?      जन्म तिथि 563 ई० जन्म स्थान लुंबिनी, नेपाल    वास्तविक नाम       सिद्धार्थ वशिष्ठ उपनाम गौतम बुद्ध, सिद्धार्थ गौतम, शाक्या मुनि, बुद्धाव्यवसायबौद्ध धर्म के संस्थापक व्यक्तिगत जीवन Death of Buddha? मृत्यु तिथि 483 ई०मृत्यु स्थलकुशीनगर, भारतआयु (मृत्यु के समय) 80 वर्ष गृह नगरलुंबिनी, नेपालधर्मबौद्ध धर्म जाति क्षत्रिय (शाक्य)परिवार  Who was lord Buddha father? पिता - शुद्धोधन माता - मायादेवी, महाप्रजावती उर्फ़ गौतमी (सौतेली माँ) प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां वैवाहिक स्थिति विवाहित पत्नी राजकुमारी यशोधरा 29 साल की उम्र में, सिद्धार्थ ने अपने महल  और परिवार को, एक सन्यासी जीवन जीने के लिए त्याग दिया, उन्होंने सोचा कि गृह त्याग  का जीवन जीने से, उन्हें वहजवाब मिलेगा जो वह तलाश कर रहे थे। अगले छह सालों तक उन्होंने और अधिक तपस्वी जीवन जिया। उस दौरान उन्होंने बहुत कम खाना खाया और उपवास करने के कारण शरीर बहुत ही दुर्बल और कमजोर हो गया था। इन वर्षों